लखनऊ. कानपुर एनकाउंटर (Kanpur Encounter) में ढेर हुए दुर्दांत अपराधी विकास दुबे (Gangster Vikas Dubey) के फरार चल रहे भाई दीप प्रकाश दुबे (Deep Prakash Dubey) पर पुलिस (Police) ने 20 हजार का इनाम घोषित किया है. बिकरू हत्याकांड के बाद से ही दीप प्रकाश दुबे फरार चल रहा हैं. पुलिस उसकी गिरफ़्तारी के लिए लगातार दबिश दे रही है. अब राजधानी लखनऊ पुलिस ने उसकी गिरफ़्तारी के लिए इनाम घोषित किया है. दीप प्रकाश दुबे के खिलाफ लखनऊ के कृष्णा नगर कोतवाली में जालसाजी समेत अन्य धाराओं में एफआईआर दर्ज है.

इस मामले में वांछित है दीप प्रकाश
बता दें लखनऊ की कृष्णा नगर कोतवाली में विकास दुबे और दीपक दुबे के खिलाफ विनीत पांडे ने एफआईआर दर्ज कराई थी कि उसकी नीलामी में खरीदी कार को धोखाधड़ी से दोनों भाइयों ने हड़प लिया था और रंगदारी मांग रहे थे. इसी मुकदमे में फरार चल रहा है दीप प्रकाश दुबे. जिसके बाद डीसीपी सेंट्रल दिनेश सिंह ने उसकी गिरफ्तारी पर 20000 रुपए का इनाम घोषित किया है.

पुलिस के मुताबिक विकास दुबे के साथ जुर्म में रहा है शामिल
पुलिस के मुताबिक दीप प्रकाश दुबे अपने भाई के साथ जुर्म में साझेदार रहा है. 2/3 जुलाई की रात आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद से ही वह फरार चल रहा है. पुलिस की मानें तो वह लखनऊ में ही कहीं छिपा है. लेकिन लगतार अपनी लोकेशन बदल रहा है. लखनऊ स्थित उसके घर के बाहर पुलिस तैनात कर दी गई है जो हर आने जाने वालों पर नजर रख रही है.

10 जुलाई को एनकाउंटर में विकास दुबे हुआ था ढेर
2/3 जुलाई की रात एक सीओ समेत आठ पुलिसवालों की हत्याकर फरार होने वाला विकास दुबे उज्जैन में गिरफ्तार हुआ था. उज्जैन से कानपुर लाते वक्त पुलिस की गाड़ी पलती और उसने भागने का प्रयास किया. जिसके बाद एसटीएफ से हुई मुठभेड़ में विकास दुबे का खात्मा हो गया. विकास दुबे के अलावा उसके पांच अन्य साथी भी मुठभेड़ में मारे गए थे. साथ ही विकास दुबे के साथ पुलिस हत्याकांड में शामिल कई लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. जबकि कई अन्य की तलाश की जा रही है.