मेरठ. कानपुर (Kanpur) के कुख्यात बदमाश विकास दुबे (Gangster Vikas Dubey) के एनकाउंटर (Encounter) के बाद यूपी के टॉप मोस्ट बदमाशों (Top Most Criminals) को भी एनकाउंटर का डर सताने लगा है. बदमाश भी अब एसटीएफ (STF) से बचने के लिए खुद ही सरेंडर कर रहे हैं. तो वहीं जेल में बंद कुख्यात बदमाशों के परिजन उनकी सुरक्षा के लिए न्यायालय की शरण ले रहे हैं. ऐसा ही एक मामला मेरठ (Meerut) के कुख्यात बदमाश उधम सिंह (Criminal Udham Singh) से जुड़ा है. जिसका नाम प्रदेश के टॉप 25 बदमाशों की लिस्ट में है. वर्तमान में वह आजमगढ़ की जेल में बंद है. उधम सिंह पर कई हत्या और रंगदारी के मुकदमे भी दर्ज हैं, जिसको लेकर उसको अलग-अलग जिलों में पेशी पर आना पड़ता है. लेकिन अब उधम सिंह के परिजनों को उसके एनकाउंटर का डर सताने लगा है.

सुप्रीम कोर्ट से सुरक्षा की गुहार

बता दें कि उधम सिंह की पत्नी पुष्पा सिंह ने पति की सुरक्षा के लिए सुप्रीम कोर्ट में एक ऑनलाइन याचिका दायर की है. उधम सिंह की पत्नी ने बताया कि जिस वक्त पुलिस उधम सिंह को पेशी पर लेकर आती है तो उन्हें इस बात का डर सता रहा होता है कि कहीं पेशी के दौरान ही उधम सिंह का एसटीएफ एनकाउंटर न कर दे. इसीलिए उन्होंने न्यायालय की शरण लेते हुए उधम की सुरक्षा के लिए सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की है. जिससे उधम सिंह को सुरक्षा मिल सके.

उधम सिंह के वकील ने बताया कि पेशी पर लाते समय किठौर में पहले भी उस पर हमला हुआ था. ऐसी घटना फिर न हो जाए इसी आशंका से पत्नी के कहने पर सुप्रीम कोर्ट में उधम की सुरक्षा के लिए एक याचिका दायर की गई है.

बदमाशों में दिख रहा खौफ

बता दें उधम सिंह की पत्नी पुष्पा सिंह मौजूदा वक्त में करनावल गांव की चेयरमैन भी हैं, जब से  विकास दुबे एनकाउंटर में मारा गया है, तभी से उन्हें भी उधम सिंह की हत्या की पूरी आशंका हो रही है. पुष्पा सिंह का कहना है  कि उधम सिंह को सुरक्षा मिले और एसटीएफ उनका एनकाउंटर न करे. इसी के लिए सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की गई है. गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश पुलिस लगातार बदमाशों का एनकाउंटर में सफाया कर रही है. बदमाशों में पुलिस का खौफ है. इसीलिए कोई कोर्ट जा रहा है तो फिर कोई सरेंडर की जुगत में लगा है.