भोपाल। मध्यप्रदेश में जब से मंत्रिमंडल गठन की खबरे ने टूल पकड़ा जब तब से प्रदेश के राजनैतिक गलियारों में फिर से सियासी दाब पेंचों का सिलसिला शुरू हो गया है। सूत्रों के मुताबिक मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जल्द ही अपने मंत्रिमंडल का विस्तार कर सकते हैं। मंत्रिमंडल को लेकर अटकले भी तेज हो गई है।

मिली जानकारी के अनुसार एक से दो दिन के अंदर मंत्रिमंडल में 22 नए सदस्यों को शामिल किया जा सकता है। ऐसी में शिवराज मंत्रीमंडल में शामिल होने के लिए सिंधिया संर्थक विधायक जो बीजेपी को समर्थन दे चुके है वह निर्दलीय विधायक अब मंत्रिमंडल में अपनी जगह पक्की करने अभी से नज़र आ रहे है।

मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलों के बीच पूर्व खनिज मंत्री प्रदीप जायसवाल और पूर्व विधायक ऐंदल सिंह कंसाना सोमवार को प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा के निवास पहुंचे। जहां तीनो नेताओं की तकरीबन एक घंटे बंद कमरे में चर्चा चली। मंत्रिमंडल गठन की चर्चा के बीच तीनों नेताओं की मुलाकात के कई मायने निकाले जा रहें है, हालांकि मुलाकात कर बाहर निकले प्रदीप जायसवाल मीडिया से कुछ भी कहने से बचते नज़र आए।

दूसरी तरफ बसपा और निर्दलीय विधायक शिवराज मंत्री मंडल में शामिल होने की आस लगा कर बैठे हुए है। बीते दिन पथरिया से बसपा विधायक रामबाई ने भी मंत्री नरोत्तम मिश्रा मुलाकात की थी। वही मंत्रिमंडल में शामिल होने पर रामबाई का ने कहा था कि बीजेपी की जो नीति है उन्हें जो सही लगेगा वो करेगी। रामबाई ने कहा था कि वह अपने क्षेत्र का विकास करना और क्षेत्र की जनता का विकास करना ही उनका महत्वपूर्ण लक्ष्य है। पहले इस पर प्राथमिकता है। आगे बीजेपी की सोच है की उसे क्या करना है, क्या नहीं उसमे हम कुछ नहीं बोल सकते है।

बता दें, कांग्रेस की सरकार गिरने पर वारासिवनी से निर्देलीय विधायक और कांग्रेस सरकार में मंत्री रहे प्रदीप जायसवाल ने बीते दिनों कहा था की वें निर्देलीय विधायक है और क्षेत्र के विकास के लिए भाजपा के साथ रहेंगे।