• 23 विधायकों को मंत्रिमंडल में किया जाएगा शामिल
     

भोपाल । मप्र में मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चा एक बार फिर गर्म हो गई है। संभवत: मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर चल रही तमाम अटकलों पर शनिवार विराम लग जाएगा। शनिवार तक आलाकमान की तरफ से स्थिति साफ हो जाएगी। भाजपा सूत्रों का कहना है कि संभवत: मंत्रिमंडल का विस्तार 10 मई को होगा। मंत्रिमंडल में सिंधिया समर्थक 8 पूर्व विधायकों सहित 23 मंत्री बनाए जाएंगे।
उधर, कई विधायक अभी भी असमंजस में हैं कि विस्तार होगा कि नहीं। उनका मानना है जब तक मंत्रिमंडल का विस्तार नहीं हो जाता तब तक हम यह समझेंगे कि यह मात्र चर्चा है। एक विधायक यह भी कहते हैं कि शिवराज सिंह चौहान के पिछले कार्यकाल में भी मंत्रिमंडल विस्तार की बार-बार चर्चा होती रहती था।

आज लग सकती है नामों पर मुहर
उधर, भाजपा सूत्रों का कहना है कि पिछले दो दिनों से दिल्ली में शिवराज कैबिनेट के दावेदारों को लेकर पशोपेश की स्थिति बनी हुई है। मध्यप्रदेश में मंत्री पद के लिए भाजपा के शीर्ष नेतृत्व के अलावा संगठन और संघ के नेताओं के बीच गहरी मंत्रणा चल रही है। बताया जा रहा है कि शनिवार सुबह तक संघ कार्यालय द्वारा संभावित नामों पर मुहर लगा दिए जाने के बाद दावेदारों के नाम की विधिवत घोषणा हो जाएगी। इसी के साथ 10 मई तक नए मंत्रियों के शपथ दिलाने की बात भी सामने आ रही है। कांग्रेस के बागी विधायकों के अलावा निर्दलीय विधायक के नामों पर खींचतान होने की वजह से मंत्रिमंडल का विस्तार अटका हुआ था।

सिंधिया समर्थकों के नाम तय
प्रारंभिक तौर पर कांग्रेस से बगावत करने वाले आठ नामों को भी वायदे के मुताबिक मंजूरी मिल गई है। इसमें से तुलसी सिलावट और गोविंद सिंह राजपूत पहले ही मंत्री बनाए जा चुके हैं। इसके अलावा कैबिनेट विस्तार में बिसाहूलाल सिंह, महेन्द्र सिंह सिसोदिया, प्रद्युम्न सिंह तौमर, प्रभुराम चौधरी और इमरती देवी को कैबिनेट मंत्री का दर्जा मिल सकता है। इसके अलावा संभावित मंत्रियों में हरदीप सिंह डंग, राज्यवर्धन दत्तीगांव, रघुराज कंसाना, एंदल सिंह कंसाना को राज्यमंत्री बनाने की बात सामने आ रही है। वर्तमान पांच मंत्रियो के अलावा कुल 23 अन्य मंत्रियों को शपथ दिलाई जाएगी। इसमें भाजपा से 13 नए चेहरे सामने आ सकते हैं। सभी नाम तय होने के बाद सची को अंतिम मुहर के लिए दिल्ली हाईकमान को भेजा जाएगा।
वि