गोरखपुर. सीएम सिटी गोरखपुर (Gorakhpur) में गुरुवार को कमिश्नर दफ्तर पर सपा के पूर्व मंत्री राधेश्याम सिंह (Former Minister Radha Mohan Singh) के धरने पर बैठ जाने से हड़कंप मच गया. दरअसल किसानों की समस्या (Farmers Problems) के संबंध में कमिश्नर से मिलने आए पूर्व मंत्री अधिकारी के रूखे रवैये से नाराज होकर धरने पर बैठ गए. पूर्व मंत्री का आरोप है कि किसानों की समस्या को लेकर कमिश्नर को ज्ञापन देने आया था लेकिन कमिश्नर ने किसानों की समस्या को लेकर कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई. इतना ही नहीं पूर्व मंत्री का कहना है कि कमिश्नर ने उन्हें जेल भेजने तक की धमकी दे डाली. कमिश्नर के बर्ताव के विरोध में गांधीवादी तरीके से उनके दफ्तर के बाहर धरने पर बैठने को मजबूर होना पड़ा है.

ज्ञापन दिया तो जेल भेजने की धमकी दे रहे कमिश्नर: पूर्व मंत्री
उधर पूर्व मंत्री के धरने पर बैठने के खबर से मौके पर अफरा-तफरी मच गई. मौके पर सिटी मजिस्ट्रेट ने पहुंचकर पूर्व मंत्री को मान-मनौव्वल कर उन्हें धरने से उठाया. इस दौरान मीडिया से अपनी पीड़ा व्यक्त करते हुए सपा के पूर्व मंत्री राधेश्याम सिंह का कहना है कि गन्ना किसानों की समस्या को लेकर कमिश्नर से मिलने आया था. लेकिन पूर्वाचल के गन्ना किसानों की समस्या से बेपरवाह कमिश्नर महोदय ने समय का हवाला देकर मिलने से इंकार कर दिया. किसानों की समस्या से संबंधित ज्ञापन मेरे द्वारा कमिश्नर महोदय को दिए जाने पर मुझे जेल भेजने की धमकी देने लगे. ऐसे में सरकार के तानाशाह अफसर के खिलाफ मुझे धरने पर बैठना पड़ा है.

मजबूरी में धरने पर बैठना पड़ा
पूर्व मंत्री राधेश्याम सिंह का कहना है कि गन्ना किसानों की समस्या को लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ गंभीर हैं लेकिन सीएम सिटी के मंडल के किसानों की समस्या को लेकर कमिश्नर महोदय का रवैया नाकाबिले बर्दाश्त है. पूर्व मंत्री ने कहा है कि कमिश्नर की तानाशाही के विरोध में गांधी, लोहिया और जयप्रकाश के रास्ते पर चलकर उन्हें आंदोलन करने पर बाध्य होना पड़ा है.

कमिश्नर ने चैंबर में बुलाकर लिया ज्ञापन
पूर्व मंत्री राधेश्याम सिंह के धरने पर बैठने की सूचना पर सिटी मजिस्ट्रेट अभिनव रंजन श्रीवास्तव ने मौके पर पहुंचकर धरना खत्म कराया. हंगामे के बाद कमिश्नर जयंत नार्लीकर ने पूर्व मंत्री राधेश्याम सिंह को अपने चैंबर में बुलाकर किसानों से संबंधित ज्ञापन लिया. साथ ही किसानों की समस्या को दूर करने का आश्वासन दिया. फिलहाल सपा के पूर्व मंत्री राधेश्याम सिंह द्वारा कमिश्नर दफ्तर पर धरने का मामला इलाके में सुर्खियों में है.