लखनऊ. बिकरू सामूहिक कांड (Bikroo Case) में शहीद पुलिसकर्मियों के परिवारों को स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) के साथ यूपी सरकार के एमओयू (MOU) से बड़ी मदद मिली है. इसके तहत हर शहीद पुलिसकर्मी के परिवार को 30 लाख रुपये मिले हैं. यूपी में पहली बार इस एमओयू का लाभ पुलिसकर्मियों के परिवार के मिला है. डीआईजी कानपुर और एसबीआई के अधिकारियों के प्रयास से शहीदों के परिजनों को यह मदद मिली है. बता दें कि बिकरू कांड में 8 पुलिसकर्मी शहीद हुए थे. दरअसल, पुलिसकर्मियों के एसबीआई में अकाउंट खोलते समय बैंक ने इंश्योरेंस के तहत ऑफर किया था कि ऑन ड्यूटी शहीद होने पर उनके परिवार को 30 लाख रुपये दिए जाएंगे.

यूपी में ऐसा पहली बार हुआ: डीआईजी
इसी के तहत बिकरू में शहीद हर पुलिसकर्मी के परिवार को 30-30 लाख रुपये दिए गए. डीआईजी/एसएसपी कानपुर डॉ प्रीतिंदर सिंह के मुताबिक ऐसा यूपी में पहली बार हुआ है. बता दें कि कानपुर के चौबेपुर थाना क्षेत्र के बिकरू गांव में दुर्दांत अपराधी विकास दुबे ने हमला कर दबिश देने गई पुलिस टीम के 8 जवानों की हत्‍या कर दी थी. इनमें क्षेत्राधिकारी बिल्हौर देवेंद्र मिश्रा, थाना प्रभारी शिवराजपुर महेश चंद्र यादव, चौकी इंचार्ज मंधना अनूप कुमार सिंह, सब इंस्पेक्टर नेबू लाल, सिपाही सुल्तान सिंह, सिपाही राहुल दिवाकर, सिपाही बबलू कुमार, सिपाही जितेंद्र शामिल हैं.उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शहीद पुलिसकर्मियों के परिजनों से गुरुवार को अपने सरकारी आवास पर भेंट की. सीएम ने शहीद हुए पुलिस उपाधीक्षक देवेंद्र मिश्र और थानाध्यक्ष महेश कुमार यादव के परिजनों से भेंट कर कुशल-क्षेम जाना. मुख्यमंत्री योगी ने अपने सरकारी आवास पर कानपुर के चौबेपुर के बिकरू कांड में बलिदानी सीओ देंवेंद्र मिश्र के बड़े भाई, मिश्र की पत्नी तथा बेटियों से मुलाकात की. उन्होंने इन्हें हर प्रकार की मदद देने का आश्वासन देने के साथ ही बेटियों की पढ़ाई के बारे में बात की.शहीद देवेंद्र की पत्नी ने करीब आधे घंटे मुख्यमंत्री से बातचीत की. शहीद के परिवारीजनों ने बताया कि मुख्यमंत्री ने परिवार को सहयोग उपलब्ध कराने और बच्चियों से मिलने के लिए बुलाया था. उन्होंने परिवार की हर संभव मदद करने की भी बात कही और बच्चियों की पढ़ाई के बारे में पूछा.