कानपुर |  कानपुर कांड़ में आरोपित विकास दुबे के 10 गुर्गे एक साथ कोर्ट में सरेंडर करने की फिराक में हैं। वे किसी दूसरे शहर की कोर्ट में सरेंडर करने की योजना बना रहे हैं। इसमें उनका साथ कुछ सफेदपोश भी दे रहे हैं। उनकी लिखापढ़ी का ठेका इन्हीं लोगों ने उठा रखा है। इसको देखते हुए पुलिस और एसटीएफ को अलर्ट किया गया है।

बिकरू में आठ पुलिस कर्मियों की हत्या के बाद एसटीएफ और पुलिस ने ताबड़तोड़ एनकाउंटर में विकास समेत पांच बदमाशों को मार गिराया। अब तक 16 बदमाशों और उनके मददगारों को जेल भेजा जा चुका है। 10 आरोपित अब भी फरार हैं। पुलिस को सभी की अलग-अलग लोकेशन मिल रही है। इनकी गिरफ्तारी के लिए 12 टीमें काम कर रही हैं। उनके रिश्तेदारों को उठाकर पूछताछ की गई है।

मोबाइल बंद
इन आरोपितों से जुड़े एक दर्जन से ज्यादा मोबाइल नम्बर पुलिस के हाथ लगे हैं। पुलिस ने उनके जरिए ट्रेस करने की कोशिश की मगर सफलता नहीं मिली। 3 जुलाई के बाद से सभी नम्बर स्विच ऑफ जा रहे हैं। इन सभी नम्बरों की आखिरी लोकेशन, चौबेपुर, शिवली, कानपुर देहात में मिली है। 

एक साथ करेंगे सरेंडर 
एसटीएफ और पुलिस ने संयुक्त सर्च ऑपरेशन में तीन दिन पहले औरैया से एक आरोपित के रिश्तेदार को उठाया था। उससे पूछताछ में जानकारी मिली है कि 10 आरोपित एक साथ कोर्ट में सरेंडर करने की फिराक में हैं। इसके लिए उन लोगों ने तानाबाना भी बुन लिया है। कुछ सफेदपोशों की मदद से सभी नोएडा, आगरा या फिर मध्य प्रदेश के किसी शहर में सरेंडर करने की योजना बना रहे हैं। इसके बाद एसटीएफ और पुलिस और सक्रिय हुई है। सभी जगहों पर अलर्ट रहने का मैसेज लखनऊ से भिजवाया गया है। वहीं एक टीम कानपुर और एक टीम कानपुर देहात में भी सक्रिय की गई है।