बदायूं. उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले के बदायूं थाने के उपैती क्षेत्र के एक आंगनबाड़ी कार्यकर्ती के साथ कथित सामूहिक दुष्कर्म और हत्याकांड के मामले में सोमवार देर शाम अचानक महिला के पति की तबीयत खराब हो गई. पुलिस ने इसकी जानकारी दी. परिवारवालों ने बताया कि वह अजीब हरकतें और बहकी बहकी बातें करने लगा. परिजन उसे तत्काल प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले गए जहां से उनको जिला अस्पताल भेज दिया गया. जिला अस्पताल के डॉक्टरों ने परीक्षण के बाद उसे बरेली भेज दिया.

जिला अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में तैनात आपात चिकित्सा अधिकारी डॉ. गजेंद्र वर्मा ने बताया कि मृत महिला के पति को अस्पताल लाया गया था. स्वास्थ्य जांच में उसकी तबीयत ठीक थी, लेकिन वह कुछ अटपटी बातें कर रहा था और इसके बाद उसे बरेली के अस्पताल में भेज दिया गया है. उसकी मानसिक हालत कुछ खराब प्रतीत हो रही है.

उन्होंने बताया कि महिला के पति को खांसी जुकाम बुखार जैसे कोई लक्षण नहीं थे, क्योंकि परिजन कह रहे थे कि उसकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं है और बदायूं में मानसिक रोगों के इलाज की कोई व्यवस्था नहीं है इसलिए उसे बरेली जिला अस्पताल को भेज दिया गया था.

बरेली में उसका इलाज कर रहे डॉ. के के निर्मल ने बताया कि मरीज की शरीरिक हालत ठीक है और वह मानसिक तनाव में लग रहा है. मंगलवार की शाम को बरेली जिला चिकित्सालय से डिस्चार्ज कर उसे उसके गांव वापस भेज दिया गया.

गौरतलब है कि तीन जनवरी को बदायूं जिले के उघैती थाना क्षेत्र के एक गांव में मंदिर गयी 50 वर्षीय महिला की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी. परिजन ने मंदिर के महंत सत्य नारायण और उसके दो साथियों पर बलात्कार और हत्या का आरोप लगाया है. इस आधार पर आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया. पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.