बिलासपुर। स्वामी विवेकानंद तकनीकी विवि ने इंजीनियरिंग छात्रों की परीक्षाओं से संबंधित नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। बीई सातवें सेमेस्टर के छात्रों की परीक्षाएं दिसबंर माह के तीसरे सप्ताह से लिए जाने की तैयारी है।
हालांकि अब तक समय-सारिणी घोषित नहीं की गई है। विश्वविद्यालय प्रबंधन का कहना है कि उनके द्वारा टाइम-टेबल भी कुछ ही दिनों में वेबसाइट पर अपलोड कर दिया जाएगा। सबसे पहले अंतिम वर्ष अर्थात सातवें सेमेस्टर की परीक्षाएं ली जाएंगी। शेष अन्य सेमेस्टर की परीक्षाएं जनवरी में प्रारंभ होंगी। सभी कक्षाओं की परीक्षाएं ऑफलाइन मोड में ही होंगी।
सभी जिले में एक परीक्षा केंद्र बनाया जाएगा तथा कोविड प्रोटोकॉल को ध्यान में रखते हुए परीक्षाएं ली जाएंगी। बीई के साथ ही बी. फॉर्मेसी, बी. आर्क, डिप्लोमा इंजीनियरिंग तथा डिप्लोमा फॉर्मेसी की भी परीक्षाएं सीएसवीटीयू लेगा। सभी कोर्स के अंतिम वर्ष के छात्रों की परीक्षाएं पहले होंगी।
नए छात्रों के समक्ष भी समस्या
इंजीनियरिंग कॉलेजों में प्रवेश प्रक्रिया अब तक चल रही है। नवंबर अंत तक कक्षाएं चलेंगी। दिसंबर से ही छात्रों की कक्षाएं शुरू हो सकेंगी। सीएसवीटीयू द्वारा जारी अधिसूचना के मुताबिक सातवें सेमेस्टर को छोड़कर अन्य सभी सेमेस्टर की परीक्षाएं जनवरी में होंगी। ऐसे में प्रथम वर्ष के छात्रों के पास पढ़ाई के लिए सिर्फ एक माह ही रहेगा। एक महीने की पढ़ाई में छात्र तैयारी किस तरह से करेंगे अथवा विश्वविद्यालय द्वारा कोई अन्य व्यवस्था की जाएगी, इसे भी स्पष्ट नहीं किया गया है।
प्रायोगिक पर सवाल
कोरोना संक्रमण के चलते संस्थानों के बंद होते ही सीएसवीटीयू ने ऑनलाइन कक्षाएं संचालित करने आदेश दिया था। कई निजी महाविद्यालयों द्वारा इसका पालन नहीं किया गया। कुछ जगहों में नेटवर्क समस्या के कारण भी ऑनलाइन कक्षाओं से छात्र नहीं जुड़ सके।
इंजीनियरिंग पाठ्यक्रम के सभी ब्रांच व फॉर्मेसी पाठ्यक्रम में भी कुछ हिस्सा प्रायोगिक होता है। जब कक्षाएं ही संचालित नहीं हुई हैं तो इसकी तैयारी कैसे करेंगे और पर्चे कैसे संचालित होंगे, इसे लेकर छात्र परेशान हैं। छात्रों का कहना है कि प्रायोगिक के इतर सैद्धांतिक पाठ्यक्रम का भी बड़ा हिस्सा अब तक पढ़ाया ही नहीं गया है।
ऑनलाइन कक्षाएं जुलाई से
जुलाई से ही छात्रों की पढ़ाई ऑनलाइन मोड में शुरू की जा चुकी हैं। प्रायोगिक का भी आयोजन दूरी बनाते हुए करेंगे। प्रोफेशनल कोर्स में छात्रों को जनरल प्रमोशन नहीं दिया जा सकता।
- डॉ. केके वर्मा, कुलसचिव, सीएसवीटीयू